Android 15 Battery Improve Standby Life Devices Up to 3 Hours

Google ने अपने I/O 2024 डेवलपर-फोकस्ड सेशन के दौरान एंड्रॉयड 15 (Android 15) पर ज्यादा जानकारी साझा की। एक रिपोर्ट के अनुसार, ऐसी ही एक जानकारी डिवाइसेज की बैटरी लाइफ को बेहतर बनाने के कंपनी के प्रयासों के बारे में थी, जिसमें खासतौर पर स्टैंडबाय बैटरी लाइफ थी। टेक दिग्गज ने कथित तौर पर खुलासा किया है कि उसने एंड्रॉइड सिस्टम में डोज मोड को फिर से शुरू किया है, जिससे यह साफ हो सकता है कि जब डिवाइस का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा हो तो बैकग्राउंड ऐप्स ऑन न रहें। यह बदलाव एंड्रॉइड डिवाइसेज के लिए स्टैंडबाय बैटरी लाइफ को 3 घंटे तक बढ़ा देता है।

एंड्रॉइड अथॉरिटी के लिए मिशाल रहमान ने एक रिपोर्ट में साफ किया कि उन्होंने एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म के लिए इंजीनियरिंग के वाइस प्रेसिडेंट डेव बर्क और एंड्रॉइड इकोसिस्टम के प्रेसिडेंट समीत समत से एंड्रॉइड 15 के साथ बैटरी लाइफ को बेहतर बनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में पूछा। दोनों ने बताया कि ऐसा करने के लिए जरूरी तरीका डोज मोड के जरिए था।

आपको बता दें कि डोज मोड को पहली बार एंड्रॉइड 6.0 मार्शमैलो के साथ एक डिवाइस में बैकग्राउंड प्रोसेस को मैनेज करने के तरीके के तौर पर पेश किया गया था। यह मैनेज करता है कि किन ऐप्स को बैकग्राउंड में चलने की सुविधा मिलेगी और यह कितने समय तक चल सकता है। एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म कई बैकग्राउंड टास्क को एक छोटी मेंटेनेंट विंडो में एक साथ चलाने की सुविधा देने के लिए खाली समय को इंटेलीजेंट तरीके से ऑप्टिमाइज करता है। यह साफ करता है कि अलग-अलग ऐप्स अलग-अलग समय पर नहीं चल रहे हैं, जिससे डिवाइस जरूरत से ज्यादा समय तक एक्टिव रहता है।

रिपोर्ट के अनुसार, बर्क ने इस बात पर जोर दिया कि एंड्रॉइड 15 के साथ डोज मोड को 50 प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया है। इसका मतलब है कि डिवाइस इस मोड में 50 प्रतिशत तेजी से एंट्री करेगा। खाली समय की अवधि बढ़ाकर एंड्रॉइड बैकग्राउंड प्रोसेस को ज्यादा बेहतर तरीके से कंट्रोल कर पाएगा। ऐसा कहा जाता है कि इस बदलाव से डिवाइसेज के लिए तीन घंटे की अतिरिक्त स्टैंडबाय बैटरी लाइफ में अंतर आएगा।

बैटरी लाइफ ऑप्टिमाइजेशन के अलावा एंड्रॉइड 15 यूजर्स के लिए कई नए फीचर्स भी ला रहा है। एंड्रॉइड 15 बीटा 2 रिलीज के साथ यूजर्स ने एक नया प्राइवेट स्पेस देखा जो कुछ ऐप्स के लिए छिपने की जगह के तौर पर काम करता है। ये ऐप्स होम स्क्रीन या ऐप ड्रॉअर पर नजर नहीं आएंगे। इसके अलावा इस स्पेस को एक अलग गूगल अकाउंट से एक्सेस किए जाने की भी जानकारी है और यह पासवर्ड और पिन सिक्योरिटी के साथ आएगा।

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

संबंधित ख़बरें

Source link


Discover more from Khabar Ok News

Subscribe to get the latest posts to your email.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from Khabar Ok News

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading