घुटनों, एड़ी में है दर्द और सूजन…इस बीमारी के हैं लक्षण, डॉक्टर से जानें बचाव के तरीके Increase in uric acid can make you a victim of many major diseases, this is how you can identify its symptoms, you can control uric acid by adopting these measures

गुमला. आज के इस आधुनिक युग व भाग दौड़ भरी जिंदगी में यूरिक एसिड की बीमारी कॉमन हो गई है और हमारे शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने से पुरानी बीमारियां भी जन्म लेती हैं. साथ ही खराब लाइफस्टाइल, अनुचित खान पान, कम पानी पीना, कैलोरी से भरपूर खाने का सेवन करने से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ती है. बताते चलें कि यूरिक एसिड हमारे शरीर में एक गंदगी की तरह जमा होता है और अगर खून में इसकी मात्रा बढ़ जाए तो जोड़ों में दर्द, किडनी की बीमारी, दिल के दौरे आदि जैसी कई खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं.

सिविल सर्जन डॉ राजू कच्छप ने न्यूज 18 लोकल को बताया कि यह समस्या आज कल कॉमन हो गई है. यह समस्या विभिन्न लोगों को विभिन्न प्रकार की चीजें खाने से भी होती हैं. जैसे जो लोग ज्यादातर मीट खाते हैं, वैसे लोगों का  यूरिक एसिड बढ़ जाता है. साथ ही कुछ लोगों का साग – सब्जियां वगैरा खाने के कारण भी यूरिक एसिड बढ़ता है.

ब्लड में यूरिक एसिड का एक लेवल होता है, अगर ये उस लेवल से बढ़ जाता है, तो यह खतरनाक हो जाता है और मुख्य रूप से एड़ी और घुटना को अफेक्ट करता है. साथ ही यह शोल्डर ज्वाइंट एवं जहां-जहां भी शरीर में जॉइंट है. वहां भी दर्द हो सकता है. ऐसे में यूरिक एसिड की जांच करवाएं एवं उसे नार्मल करने के लिए डॉक्टर की सलाह लें, और उसे कंट्रोल में रखें ताकि आप इससे होने वाली अन्य बिमारियों एवं परेशानियों से बचे रहें. जहां तक हो सके रेड मीट का उपयोग कम करें. इसके अलावा पालक, चना, चावल आदि का सेवन कम करें.

ऐसे करें पहचान
अगर आपके शरीर के जोड़ों, घुटनों, एड़ी में दर्द और सूजन हो रही है, तो यह आपके शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के कारण यह समस्या उत्पन्न हो रही है. अगर शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने लगता है तो किडनी इसे अच्छी व पूरी तरह से फिल्टर कर बाहर नहीं निकाल पाती है. जिससे ये यूरिक एसिड जोड़ों और सेल्स में जमा होने लगता है, जिसकी वजह से न सिर्फ जोड़ों में दर्द और सूजन आने लगती है बल्कि कई अन्य गंभीर बीमारियों को जन्म दे सकती है. अगर आपको इस तरह के कुछ भी लक्षण दिखाई दें तो तत्काल चिकित्सक की सलाह लें. ऐसे लोगों को गठिया, हड्डियों की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है.साथ ही हार्ट, पथरी, डायबिटीज, किडनी और लिवर से जुड़ी बीमारियां भी हो सकती हैं.

इन चीजों से रहें दूर
कम पानी पीना, खराब लाइफस्टाइल, समय पर भोजन नहीं करना , समय पर नहीं सोना, रात में ज्यादा भोजन खाना, स्ट्रेस, ज्यादा नॉन वेज का सेवन आदि करने से यूरिक एसिड बढ़ सकता है.

Tags: Gumla news, Health, Jharkhand news, Latest hindi news, Local18

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह, एक्सपर्ट्स से की गई बातचीत के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है, व्यक्तिगत सलाह नहीं. इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. Local-18 किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा.

Source link


Discover more from Khabar Ok News

Subscribe to get the latest posts to your email.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from Khabar Ok News

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading