इस घास में छिपे हैं गहरे राज, कई बीमारियों का करती है इलाज, जानें आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह

दीक्षा बिष्ट/हल्द्वानी: कुश एक प्रकार की घास होती है. इसे अलग-अलग जगहों पर कुशा, कुस, बिख दाब, यज्ञभूषण आदि विभिन्न नामों से जाना जाता है. धार्मिक दृष्टि से इस घास को पवित्र माना गया है और हिंदू धर्म में पूजा-पाठ में भी इसका इस्तेमाल होता है. पूजा के अलावा आयुर्वेदिक औषधि के रुप में भी कुश का अपना अलग महत्व है. कुश के सेवन से शुगर नियंत्रित रहता है. इसके अलावा अल्सर का घाव ठीक करने और मिर्गी के उपचार में भी कुश फायदेमंद है. इसकी प्रमाणिकता के लिए आयुर्वेद के डॉक्टर विनय खुल्लर से इसके फायदों के बारे में जानते हैं.

वरिष्ठ आयुर्वेदिक डॉक्टर विनय खुल्लर ने बताया कि कुश घास में अनगिनत गुण हैं इसलिए आयुर्वेद में इसे कई बीमारियों के लिए औषधि के रुप में प्रयोग किया जाता रहा है. कुश एक आयुर्वेदिक घास होने के साथ ही एक जड़ी-बूटी भी है. इसके उपयोग से शरीर के कई रोग समाप्त होते हैं, लेकिन इस बात ध्यान जरूर रखें कि अगर बीमारी बड़ी है तो डॉक्टर से सलाह जरूर लें.

कैसे करें कुश की पहचान
कुश के पत्ते लंबे और साइड से थोड़े कांटेदार होते हैं. इन्हीं पत्तों के पतले डंडे सरकंडे कहलाते हैं, जिनसे पहले लोग कलम भी बनाते थे. इसकी जड़ भी बहुत उपयोगी है. कुश का तेल भी निकाला जाता है. कुश का जड़, पत्ती, तना सहित इसके पांचों हिस्से उपयोगी होने से इसे पंचांग भी कहा जाता है. तुलसी के भी पांचों हिस्से उपयोग में लाए जाते हैं.

किडनी स्टोन को निकालने में उपयोगी
आजकल प्रदूषित खाद्द और पेय पदार्थ, गंदा पानी पीने जैसे विभिन्न कारणों से किडनी में स्टोन के मामले बढ़े हैं. कुश का सेवन करने से किडनी स्टोन को निकाला जा सकता है.

दिल का रखे ख्याल
बदलते लाइफस्टाइल के कारण दिल की बीमारियां भी बढ़ रही हैं. ऐसे में कुश का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल की मात्रा ठीक रहती है. जिसकी वजह से कुश दिल को दुरुस्त रखने में मदद करता है.

सर्दी-जुकाम में दे राहत
जिन लोगों को जल्दी-जल्दी सर्दी जुकाम हो जाता है उन लोगों को कुश के पत्तों को उबालकर पानी पीना चाहिए. इससे परेशानी में आराम मिलता है और जल्द ही सर्दी ठीक होती है.

शुगर को करे कंट्रोल
शुगर को नियंत्रित रखने में भी कुश घास फायदेमंद है. कुश में एंटी-डायबिटिक गुण पाए जाते हैं, जिससे शुगर नियंत्रित रहता है.

Tags: Local18

Source link


Discover more from Khabar Ok News

Subscribe to get the latest posts to your email.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from Khabar Ok News

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading